Personality Development in Hindi – व्यक्तित्व विकास

Personality Development in Hindi :  दुसरो की गलतिया सब देखते है अपने जिगर में झाकने की हिम्मत होनी चाहिए है। आप ने यह बात जगह पढ़ी होगी या फिर किसी से सुना होगा। यदि आप अपने व्यक्तित्व में सुधार लाने चाहते है तो सबसे पहले आपको अपने अन्दर झाँक कर देखना होगा की आप में क्या क्या गलतिया है और फिर गलतियों में सुधार करना होगा। बह चीज़ ही व्यक्तित्व विकास है।Personality Development in Hindi

इस दुनिया में कोई भी इंसान परिपूर्ण नहीं है। सभी इंसानो में कोई ना कोई कमिया होती है। इस दुनिया में बिना कमी के कोई इंसान ही नहीं है। बिना कमियों के तो सिर्फ भगवान् ही होते है। सबसे पहले आपको अपनी गलतिया ढूढनी है उन्हें दूर करने की कोशिश करनी है। जो आप में अच्छी बाते उन्ह में सुधार करते रहना है। किसी चीज़ का परिणाम एकदम से नहीं आते है। जब आप अपने अन्दर निरन्तर सुधार करते रहेंगे तो एक दिन जरूर सकारात्मक परिणाम आएंगे।

एक लेख में हमने अपने पाठको के साथ कुछ ऐसे टिप्स का साँझा किया है। जो आपके व्यक्तित्व विकास में मदद कर सकते है। यदि आप ऐसे टिप्स को जानना चाहते है तो उसके लिए लेख को पूरा पढ़े –

Personality Development in Hindi

Personality Development in Hindi – व्यक्तित्व विकास करने के लिए आपको किसी तरह का ब्यय करने की जरूरत नहीं है। अपितु अपनी कमियों में सुधार करके कुछ बातो से दुरी बना कर आसानी से एक एक अच्छे व्यक्तित्व के मालिक बन सकते है। आईये जानते इस विषय अन्य बाते जिन्ह में सुधार करना चाहिए है।

आत्मविश्वास – Self-confidence

एक सफल इंसान की सबसे बड़ी निशानी होती है आत्मविश्वास। यदि आप में आत्मविश्वास है तो आप दुनिया की किसी भी परिस्तिथि का सामना कर सकते है।आत्मविश्वास आपकी छबि की निखारने में बहुत सहयक होता है। जिसकी झलक आपके चेहरे पर दिखती है। परिस्तिथि कैसी भी क्यों ना हो यदि आपके अन्दर आत्मविश्वास तो आसानी से सामना कर सकते है बह आपका कुछ भी नहीं बिगाड़ पायेगी।

यदि आप में आत्मविश्वास की कमी है तो उसके डर आपके चेहरे पर दिखेगा। यदि आप उस परिस्तिथि से निपटने के लिए सक्षम होंगे और आप में कॉन्फिडेंस ही नहीं होगा तो आप उस परिस्तिथि का समाना नहीं कर पाएंगे। यदि आप में कॉन्फिडेंस है तो आप कुछ भी कर सकते है। नामुकिन , मुमकिन होता है सिर्फ कॉन्फिडेंस से जिसके बहुत से उदहारण है इस दुनिया में।

निरन्तर सीखते रहना – Keep Learning

कोई भी इन्सान माँ के पेट से कुछ नहीं सीख के आता है। इस दुनिया में जितने भी आमिर आदमी है या सफल इन्सान बह लोग माँ के पेट से कुछ भी सीख के नहीं आये थे। अपितु उन्होंने ने इसी दुनिया में सीखा है। एक बार सिखने की कोशिश की फेल हो गए दुबारा सिखने की कोशिश की फिर फेल हो गए। परन्तु निरन्तर सिखने की प्रवत्ति ने एक दिन बह चीज़ सिख गए। परन्तु बह लोग बही नहीं रुकते है उससे आगे की सिखने की कोशिश में लगे रहते है।

सिखने के विषय में इस दुनिया में अंत नहीं है जहा तक हम सीख गए है सीखने को तो उसके बाद होता है। एक सफल आदमी कभी नहीं सोचता है की अब में सब कुछ गया अब मुझे कुछ सीखने की जरूरत नहीं है। बह हमेशा ज्ञान प्राप्ति में लगा रहता है। जहा से जैसे मिले।

सकारात्मकता रखे – Keep Positivity

परिबार ,ऑफिस या फिर अन्य किसी भी जगह आपको सकारात्मक रहना है। यदि आप किसी भी चीज़ के विषय में पहले नेगटिव पॉइंट्स से सोचते है तो आप उस काम में कभी भी सफल नहीं हो सकते है। नकारात्मकता आत्मविश्वास के स्तर को गिरा देता है। यदि आप में आत्मविश्वास की कमी होगी तो आप जिन्दगी में कभी भी सफल नहीं हो पाएंगे। ऐसे चीज़ो से ही दूर रहना है जिनमे नकारात्मकता ज़्यदा हो।

यह भी पढ़े – Psychological Facts about Girls in Hindi

नेता की तरह सोचो – Personality Development in Hindi 

नेता कोई एक पद नहीं होता है अपितु समाज का नेतृत्व करने बाले को नेता कहा जाता है और माना जाता है। समाज की जिम्मेदारी लेता है। यदि आप एक नेता की तरह सोचेंगे तो आप में भी नेतृत्व के गुण पैदा होंगे। यह आपको बदलाव लाने और दूसरों को प्रभावित करने में मदद कर सकता है।

  • पारिवारिक जिम्मेदारी समाजिक जिम्मेदारी।
  • परिबार के साथ समाज की भी जिम्मेदारी।
  • यही बाते लोगो को प्रभावित करेगी।

अपनी शारीरिक भाषा देखें

आपके व्यक्तित्व का निर्धारण करने में आपकी शारीरिक भाषा लगभग उतनी ही महत्वपूर्ण है जितनी आपके मौखिक संचार कौशल। यह आपके बारे में बहुत कुछ दिखाता है और दूसरों को आपके बारे में सही निर्णय लेने में मदद करता है। आप जो कुछ भी करते हैं, जैसे कि आप कैसे चलते हैं, बैठते हैं, बोलते हैं या खाते हैं, इसका आपके आसपास के लोगों पर प्रभाव पड़ता है, और सही बॉडी लैंग्वेज का उपयोग करने से आपके व्यक्तित्व में बहुत फर्क पड़ेगा। अपने सिर को सीधा और अपनी रीढ़ को सीधा करके चलें। अपना सिर न झुकने दें। बोलते समय शांत मुद्रा बनाए रखें और नियमित रूप से आंखों का संपर्क बनाए रखें।

अच्छे श्रोता बनो – Be A Good Listener

“ज्यादातर लोग समझने के इरादे से नहीं सुनते; वे जवाब देने के इरादे से सुनते हैं।” यह सही है। ऐसा प्रतीत नहीं होता है, लेकिन एक अच्छा श्रोता बनना एक अधिक आकर्षक व्यक्तित्व विकसित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। जब कोई आपसे बात करे तो उस पर पूरा ध्यान दें और उसे अपना पूरा ध्यान दें। प्रत्यक्ष नेत्र संपर्क बनाए रखें और अपने आस-पास के वातावरण को भ्रमित न करने दें। यह लोगों के बारे में अधिक जानने और उन्हें अधिक कुशलता से देखने में आपकी सहायता करेगा

उचित पहनाबा – Suitable  Dress

हालांकि हम यह सुझाव नहीं देंगे कि अपनी प्रतिभा और क्षमताओं से ऊपर अपने बाहरी स्व पर जोर देना महत्वपूर्ण है, लेकिन किसी के कपड़े सकारात्मक प्रभाव छोड़ने में एक भूमिका निभाते हैं। इतना ही नहीं, बल्कि यह पहचानना कि आप ठीक दिख रहे हैं और ठीक से कपड़े पहने हैं, आपको आत्मविश्वास को बढ़ावा देता है। एक सम्मानजनक तरीके से पोशाक करें और अपने परिवेश के प्रति सचेत रहें। हालांकि चमकीले रंग और अत्यधिक टैटू या पियर्सिंग एक गैर-पेशेवर खिंचाव देते हैं, पूरी तरह से इस्त्री किए गए कपड़े आपको प्रस्तुत करने योग्य लगते हैं।

यह भी पढ़े – Some good habits of successful people in Hindi

Spread the love