कीव पर कब्जा करने में हो रही देरी , रूस की सेना कीव पास

कीव पर कब्जा करने में हो रही देरी : रूस ने यूक्रेन को बड़े हल्के में ले लिए रूस का अनुमान था की रुसी सेना दो दिन के भीतर ही कीव पर कब्ज़ा कर लेगा। परन्तु आज Russia-Ukraine War को 6 दिन हो गए अभी भी रूस की सेना यूक्रेन पर कब्ज़ा नहीं कर पाई है। अब रूस की सेना ने यूक्रेन को चोरो तरफ से गैर दिया है हो सकता है की अब रूस यूक्रेन की राजधानी कीब पर जल्दी ही कब्ज़ा करे। रक्षा रक्षा विशेषज्ञ का मानना है की रूस सात मार्च तक यूक्रेन अपने कब्ज़े में ले लेगा। कीव पर कब्जा करने में हो रही देरी

यदि रूस यूक्रेन पर जल्द से जल्द कब्ज़ा नहीं कर पता है तो ऐसे स्थिति में युद्ध आगे खींच सकता है। परन्तु जिस तरह की रणनीति से अब रूस युद्ध लग रहा तो उससे ऐसा लग रहा है की जल्द से जल्द रूस यूक्रेन पर कब्ज़ा कर लेगा। रूस लगातार हमले कर रहा है। और रूस की सबसे बड़ी कोशिश यह चल रही है की यूक्रेन कम्युनिकेशन सिस्टम को पूरी तरह नष्ट करे। ताकि यूक्रेन की खबरे बहार ना जाये। लोग आपस में कनेक्ट ना हो सके। इसी के चलते कल रूस ने टीवी टावर को उड़ा दिया जो पूरी तरह नष्ट हो गया।

आज छात्र लोटे अपने देश समृति ईरानी ने किया स्वागत

यूक्रेन में भारत के बहुत से छात्र फसे हुए सरकार उन्हें बापिस लाने की पूरी कोशिश कर रही है। इस के चलते भारत सरकार ने उन्ह छात्रों को बापिस भारत लाने के ऑप्रेशन गंगा को चलाया गया है। ऑप्रेशन गंगा के तहत आज एक बिमान छात्रों को ले के भारत बापिस पहुंच गया है। इस ऑप्रेशन के तहत बिमान पोलैंड से छात्रों को ले कर आया है। जब भी बिमान एयरपोर्ट पर पहुंचा तो समृति ईरानी ने सभी छात्रों का फूल दे कर किया स्वागत किया। सरकार और छात्रों को भी बापिस भारत लाने की पूरी कोशिश कर रही है।

यूक्रेन के खरकीव में भारतीय छात्र की मौत

पिछले कल Russia-Ukraine War में भारतीय छात्र की मौत हो गयी। विदेश मंत्रालय ने ट्वीट कर दी जानकारी दी। बताया जा रहा की छात्र कर्नाटक से था। खरकीव में हुई छात्र की मौत। छात्र के परिवार से विदेश मंत्रालय सम्पर्क में है। छात्र का शब भारत बापिस लाने की कोशिश की जा रही है। छात्र का नाम नवीन शेकआपा बताया जा रहा है। अभी भी बहुत भारतीय छात्र यूक्रेन में फसे हुए। भारत सरकार यूक्रेन में फसे छात्रों भारतीय छात्रों को निकलाने ऑप्रेशन गंगा चलाया है। जिससे तहत यूक्रेन में फसे सभी छात्रों को बापिस लाया जाने की कोशिश की जा रही है।

सात मार्च तक चल सकता है रूस-यूक्रेन युद्ध

कीव पर कब्जा करने में हो रही देरी : रूस जल्द से जल्द यूक्रेन पर कब्ज़ा करना चाहता है। रक्षा विशेषज्ञ का मानना की की रूस यूक्रेन पर सात मार्च तह पूरी तरह कब्ज़ा कर सकता है। यूक्रेन को अब बहार से मदद भी मिल रही है और रूस पर अंतराष्ट्रीय दबाब बनाया जा रहा की नागरिको का कम से कम नुक्सान हो रहे है। इसलिए रूस ज़्यदा आक्रामकता के साथ युद्ध नहीं कर रहा है।
युद्ध सिर्फ अब दो ही स्थिति में ख़त्म पहला यूक्रेन की सेना समर्पण कर दे और दूसरा रूस उस पर काबिज हो जाए। युद्ध जितना लम्बा चलेगा नुक्सान उतना ही ज़्यदा होगा।

रूस पर बनाया जा रहा है दबाब

युद्ध को ख़त्म करने के लिए रूस पर अमरीका और यूरोपीय देशो दुबारा पूरा दबाब बनाया जा रहा है। यूरोपीय संघ रूस के साथ सभी संधियाँ खत्म कर दिए है ना ही अमरीका और यूरोपीय संघ रूस के साथ कोई व्यापार करेगा। अपने सैन्य हथियार रूस को नहीं बेचेगा। रूस की अर्थ व्यवस्था को कमज़ोर के किये SWIFT से भी बहार कर दिया है। जिससे रूस को अन्र्राष्ट्रीय व्यापार करने में दिक्क्त आने बाली है।