इंटरनेट पर निबंध – Essay on Internet in Hindi

इंटरनेट पर निबंध – Essay on Internet in Hindi :  किसी भी सिक्के के दो पहलु होते है। उसका एक पहलु यदि लाभ देने बाला है तो बही पर उसका दूसरा पहलु हानि देने बाला होता है।

बही बात इंटरनेट पर भी लागु होती है , आज इंटरनेट के उपभोग से हमारी जिन्दगी आसान कर दी है।  परन्तु इसी के साथ इसके कुछ नुक्सान भी है। हम इस लेख में advantage and disadvantage of internet in hindi के विषय पर चर्चा करेंगे। जानकारी को प्राप्त करने के लिए लेख को पूरा पढ़े।

किसी भी विषय में हानि को जानने स पहले हमें उस विषय का ज्ञान होना बहुत जरुरी होता है। हम इस लेख में पढ़ रहे है की इंटरनेट माध्यम की सबसे बड़ी हानि , तो हमें सबसे पहले पता होना चाहिए है की इंटरनेट क्या है। तो आए सबसे जानने की कोशिश करते है की इंटरनेट क्या है।

Contents of Table hide

इंटरनेट क्या है। What is Internet in Hindi

इंटरनेट पर निबंध :  इंटरनेट संचार का सबसे महत्ब्पूर्ण मध्यम है। जिसने आज के समय में काफी लोकप्रियता अर्जित की है। इंटरनेट के मध्यम से लाखो मनुष्य सूचना , ध्वनि , विडिओ , आदि को कंप्यूटर , लेपटॉप , मोबाइल , आदि के जरिये एक दूसरे के साथ साँझा कर सकते है। यह बिभिन आकारों बा प्रकारो के नेटवर्क से मिलकर बना होता है। जिसे हम इंटरनेट कहते है।

Internet का पूरा नाम इंटरनेशनल नेटवर्क होता है। जिसका अविष्कार  विन्ट सर्फ  और रोबर्ट इलियट कान किया था। समय के साथ इंटरनेट के विकास में बहुत से विज्ञानिको का योगदान रहा। इंटरनेट नेटवर्क का समहू है। जिसमे लाखो निजी एबम सार्बजनिक लोकल से ग्लोबल स्कोप बाले नेटवर्क होते है। साधरणतय दो या दो से अधिक कंप्यूटर सिस्टम को आपस में जोड़कर बनाया गया समहू होता है।

इंटरनेट पर उपलब्ध डाटा प्रोटोकॉल दुबारा नियन्त्रित होता है। TCP/IP दुबारा एक फाइल को कई छोटे भागो में फाइल सर्बर दुबारा बाटा जाता है। जिसे पैकेट कहा जाता है। इंटरनेट पर सभी कंप्यूटर आपस में इसी प्रोटोकॉल का प्रयोग करके बार्तालाप करते है। जिसे हम इंटरनेट कहते है।

इंटरनेट का इतिहास ? History of Internet

इंटरनेट पर निबंध : सन 1969 में Los Angeles में University of California और University of Utah Arpanate ने सयुक्त मिशन शुरू किया ,जिसका मुख्या उदेशिया भिविन विश्वविद्यालय और रक्षा मन्त्रालयो के कम्प्यूटर को एक दूसरे से कनेक्ट करना था। जो की दुनिया का सबसे पहले स्विचिंग नेटवर्क था।

80 के दशक में एक और सघीय एजेंसी राष्ट्रीय विज्ञानं फाउंडेशन ने नया उच्तम क्षमता बाला नेटवर्क NSF बनाया। यह नेटवर्क Arpanate से अधिक क्षमता बाला नेटवर्क  था।  इसकी सिर्फ एक ही कमी थी। इस नेटवर्क के उपयोग की अनुमति सिर्फ शिक्षण संस्थानों को थी।

परन्तु बाद में अर्पानेट और NSF ने सयुक्त रूप से इंटरनेट का निर्माण किया। जिसका उपयोग सभी लोग कर सकते थे। जो की एक सर्बजानिक नेटवर्क था। जिसे हम आज के समय में इंटरनेट कहते है।

इंटरनेट कनेक्शन के प्रकार –

इंटरनेट पर निबंध : इंटरनेट का उपयोग करने के लिए आपको सबसे पहले किसी सर्बर से जुड़ना होता है। इंटरनेट सर्बर एक ऐसा सिस्टम होता है जो उपभोगता से आने बाली रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट करके उपभोगता को जानकारी उपलब्ध कराता है। ऐसी कंपनी जो इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड कराती है। ISP ( Internet sevice Provider ) कहलाती है। इंटरनेट का उपयोग करने के लिए ISP कनेक्शन लेना पड़ता है। आप जिस कंपनी का इंटरनेट उपयोग करते है उसके लिए आपको फ़ीस देनी पड़ती है। इंटरनेट के प्रकार निम्नलिखित है –

Dail Up Connection – डाइल उप कनेक्शन

इस प्रकिया में उपभोगता के कंप्यूटर को फ़ोन लाइन के जरिए जोड़ा जाता है। इसलिए इसे Analog Connection भी कहा जाता है। Dail Up Connection एक अस्थाई Connection होता है। जो की कंप्यूटर और आईएसपी  के बीच बनाया जाता है।

जो टेलीफोन लाइन का उपयोग आईएसपी सर्बर का नंबर डाइल करने में करता है।  इस तरह कनेक्शन सस्ता होता है और उसकी स्पीड भी कम होती है।

Broadband Connection – ब्रॉडबैंड कनेक्शन

Broadband Brandwidth का सक्षिप्त रूप है। यह तेज़ गति से चलने बाला इंटरनेट कनेक्शन होता है। जिसमे की बाइड बैंड की Frequencies का इस्तेमाल किया जाता है। सुचना के लिए Boradband Connection की सुबिधा कोई भी प्रदान कर सकता है चाहे बो एक टेलीफ़ोन कम्पनी हो या फिर इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर या केबल एक कंपनी। इसमें भारी मात्रा में सूचनाएं भेजने के लिए एक से अधिक डाटा चैनेलो का उपयोग किया जाता है।

DSL Connection – डीएसएल कनेक्शन

डीएसएल कनेक्शन की फुल फॉर्म Digital Subscriber Line . इस कनेक्शन में उपभोगता के घर उपलब्ध दो तारो बाली टेलीफोन लाइन का इस्तेमाल किया जाता है। इस सिस्टम में उपभोगता टेलीफोन लाइन का भी उपयोग कर सकता है। यह कनेक्शन कई प्रकार के होते है

V – SAT – (वी – सैट )

V – SAT Very Small Aperture Terminal का सक्षिप्त रूप है। इसे Geo – Synchronons Satellite के रूप में बर्णन किया जा सकता है। Geo – Synchronons Satellite से जुड़ा होता है। तथा दूर संचार एबम सूचना सेबाओ जैसे ऑडियो ,विडिओ , ध्वनि इतियादी के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक विशेष प्रकार का Ground Station है। जिसमे बड़े बड़े एंटीना होते है। जिसके दुबारा V – SAT के बीच सूचना का आदान -प्रदान होता है।

Wireless Connection – वायरलेस कनेक्शन

वायरलेस कनेक्शन बह कनेक्शन होता है , जिसमे केबल की जरूरत नहीं पड़ती है। जैसे Wifi इसे चलाने के लिए किसी तरह की केबल की जरूरत नहीं पड़ती है।   Wifi का उपयोग करने के लिए सिर्फ Router की जरूरत होती है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता होता है की यह हर समय ऑन रहता है।

USB Modem Connection – यूएसबी मॉडम कनेक्शन

इस कनेक्शन के लिए मॉडेम की जरूरत नहीं पड़ती है। बल्कि USB के जरिये कनेक्शन का स्थापित किया जाता है। USB Card में सिम कार्ड को डाल के कंप्यूटर से जोड़ा जाता है।

Mobile Connection – मोबाइल कनेक्शन

आज संचार क्रांति के इस दौर में अब हर किसी के हाथो में इंटरनेट आ गया है। इसका सबसे बड़ा जरिया बना है मोबाइल फ़ोन। आज के समय में  आसानी से उपभोगता इंटरनेट 3G 4G का उपयोग अपने मोबाइल में कर सकता है।

Advantages and Disadvantages of internet – इंटरनेट के फायदे और नुकसान

इंटरनेट की खोज को होने के बाद हमारी रोज़मर्रा की जिन्दगी में बहुत से बदलाब आये है। उनमे से कुछ चीज़े सकारातमक और कुछ चीज़े नरकारत्मक है। ऐसे तो इंटरनेट से उपयोग से हमारी जिन्दगी में बहुत लाभ होते है। यदि बही पर हम यदि इंटरनेट का उपयोग सही से नहीं करते है तो हमें इंटरनेट की बझा से बहुत सी हानिया भी होती है। हम इस लेख में इंटरनेट से होने बाले लाभ और हानियों के विषय में जानने की कोशिश करेंगे –

इंटरनेट से होना बाला लाभ – Benefits of Internet

व्यापार करने में सहयक –

इंटरनेट पर निबंध : आज के समय में बही बिज़नेस सफल है जिसकी इंटरनेट मार्केटिंग सही है। यदि आप का बिज़नेस ऑनलाइन है तो आपको ग्राहक आसानी से मिल जायेगे। आज कल हर कोई अपने बिज़नेस को इंटरनेट पर ऑनलाइन कर रहा है। अब ग्राहक भी किसी भी चीज़ को दुकान में लेने से पहले जरूर ऑनलाइन चेक करता है।

बिलो का भुगतान –

पानी , बिजली सहित अनेक विलो को देने के लिए पहले घटों तक लाइन में लगना पड़ता था। परन्तु आज के समय में अनेको प्रकार के बिलो को भुगतान ऑनलाइन हो जाता है। जिससे समय की बहुत बचत हो जाती है।

सूचना भेजने और प्राप्त करने में आसानी

पहले के समय सूचना सिर्फ न्यूज़ चेनलो और अखबारों पर निर्भर होते है। उसमे में करंट न्यूज़ नहीं मिलती है। परन्तु आज इंटरनेट के इस ज़माने में लाइव न्यूज़ मिल जाती है। सूचना को भेजने और सूचना को प्राप्त करने में इंटरनेट के इस ज़माने में बहुत आसानी हो गयी है।

ऑनलाइन ऑफिस

करोना के समय में ऑनलाइन ऑफिस का ट्रेंड बहुत चल पड़ा है। अब आपको ऑनलाइन काम करने के लिए ऑफिस जाने की जरूरत नहीं है। यदि आपके पास इंटरनेट का कनेक्शन है तो आप घर बैठ के ऑनलाइन ऑफिस का काम कही से भी कर सकते है। कंपनी बालो को सिर्फ काम से मतलव होता है आप चाहे घर से करो यह फिर ऑफिस से। यदि इसी तरह ऑनलाइन ऑफिस का ट्रेंड चलता रहा तो एक दिन ऑफलाइन ऑफिस बन्द हो जायेगे।

नोकरियो की जानकारी

इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी वेबसाइट है जो नोकरियो की जानकारी उपलब्ध कराती है। आप उन वेबसाइट की मदद से ऑनलाइन नोकरियो को ढूढ सकते है। और आप ऑनलाइन ही उन नोकरियो के लिए आवेदन सकते है।

कमाई का साधन –

इंटरनेट सिर्फ मनोरंजन का साधन ही नहीं है। बल्कि आप इंटरनेट से पैसे भी कमा सकते है। इंटरनेट से पैसे कमाने के बहुत से स्त्रोत है। जैसे की आप अपना ब्लॉग शुरू कर सकते है , यूट्यूब चैनल को शुरू सकते है। इसके इलाबा भी इंटरनेट पर ऐसे बहुत से प्लेटफॉर्म है जहा पर आप ऑनलाइन काम करके अच्छा खासा पैसा कमा सकते है।

मनोरंजन का साधन –

आज कल की भागम भाग की इस जिन्दगी में मनोरंजन बहुत ही जरुरी चीज़ है। इंटरनेट पर बहुत से प्लेटफॉर्म है जहा पर आप मूवी , वेब सीरीज़ , कॉमेडी शो आदि को देख सकते है। इसके इलाबा बहुत सी गेम भी इंटरनेट पर उपलब्ध होती है।

यह भी पढ़े —

इंटरनेट से होने बाली हानिया – Internet Disadvantage in Hindi

ऐसा नहीं है की इंटरनेट के उपयोग से सिर्फ हमें लाभ ही होता है। यदि हम इंटरनेट का उपयोग सही तरीके से नहीं कर पाते है तो इंटरनेट के उपयोग से हमें बहुत सारी हानिया भी हो सकती है। इंटरनेट से उपयोग से होने बाली हानिया निम्लिखित है –

समय की  बर्बादी

आप इंटरनेट का उपयोग सिर्फ सोशल मीडिया या टाइम पास करने के लिए कर रहे है तो आपको इंटरनेट का उपयोग करना बन्द करना चाहिए है। क्युकी आप समय और पैसे दोनों को बर्बाद कर रहे है। इंटरनेट फ्री का नहीं होता है उसके लिए आपको भुगतान करना होता है।

निजी जानकारी चोरी होने का खतरा –

इंटरनेट की दुनिया में सभी लोग अच्छे नहीं है। इंटरनेट का उपयोग करने बाले बुरे लोग भी दुनिया में भरे पड़े। स्पैमर लोग इंटरनेट से आपकी निजी जानकारी को चुरा लेते है। उसी जानकारी का उपयोग करके आपके साथ धोखाधड़ी करते है। इसे इंटरनेट माध्यम की सबसे बड़ी हानि कहा जा सकता है। आपको इंटरनेट पर किसी को भी जानकारी नहीं देनी है। अपनी बैंक डिटेल , otp आदि को किसी के साथ साँझा नहीं करना है।

शारीरक रूप से अस्वस्थ होना –

इंटरनेट का जरूरत से ज़्यदा उपयोग स्वस्थ के लिए हानिकारक होता है। इंटरनेट के जयदा उपयोग से आँखों की रौशनी जा सकती है। इसके इलाबा माइग्रेन , मोटापा , नींद आदि की बीमारी इंटरनेट की बजहा से उत्पन हो सकती है। इसलिए हमें कोशिश करनी चाहिए है की हम बेफिज़ूल का इंटरनेट का इस्तेमाल ना करे।

परिबारिक जीवन अंसतुलन –

इंटरनेट का ज़्यदा उपयोग से परिबारिक में  जीवन अंसतुलन पैदा हो सकता है। इंटरनेट का ज़्यदा उपयोग  करने से लोग इंटरनेट में अपनी एक दुनिया बना लेते है। अपने परिबारिक जीवन में कम समय देते है और इंटरनेट पर जयदा समय देते है। ऐसे में परिबारिक जीवन में  अंसतुलन की स्थिति उत्पन हो जाती है। ज़्यदा इंटरनेट का उपयोग करने बालो को यह नहीं भूलना चाहिए है। इंटरनेट से महत्ब्पूर्ण परिबार होता है।

बच्चो पर नकारत्मक प्रभाव –

माता पिता अपने बच्चो की शिक्षा के लिए इंटरनेट का कनेक्शन देते है। परन्तु बच्चे इंटरनेट पर पढ़ाई कम और बेफिज़ूल का कॉन्टेंट देखते और पढ़ते है। या गेमिंग खेलने में अपना समय बर्बाद कर देते है। इंटरनेट का जयदा उपयोग बच्चो को शारीरक रूप से भी कमज़ोर कर देता है। बच्चे शारीरक गतिबिधियो में कम ध्यान देते है। इसलिए जितना हो सकते बच्चो को इंटरनेट के उपयोग से रोकना है।

स्पैमिंग –

आज के समय में सबसे जयदा स्पैमिंग इंटरनेट पर ही होती है। जैसे जैसे लोग अपना बिज़नेस ऑनलाइन कर रहे है। बैसे बैसे स्पैमर भी ऑनलाइन ज़्यदा स्पैम कर रहे है। इंटरनेट पर हमें सिर्फ उसी चीज़ का उपयोग करना चाहिए है जिनकी जानकारी है। अन्यथा आप भी स्पैमिंग का शिकार हो सकते है।

निष्कर्ष – Conclusion

प्रिय पाठको आज हमने इस लेख में पढ़ा की इंटरनेट पर निबंध – Essay on Internet in Hindi । आपने पूरा लेख पढ़ा होगा तो आप जान चुके होंगे। की इंटरनेट हमारी जिन्दगी में कितनी अहमियत रखता है। इंटरनेट का उपयोग कितना करना चाहिए है। उम्मीद करता हु की लेख आपको पसन्द आया होगा। लेख को कृपया करके सोशल मीडिया पर शेयर ताकि लोगो को भी जानकारी मिल सके।

Spread the love