JD Full Form – जे डी का फुल फॉर्म क्या होता है ? Gyan Hindi Web

हेलो फ्रेंड्स आज इस लेख में हम पढ़ेगे JD Full Form – जे डी का फुल फॉर्म क्या होता है ? JD Full Form in Poltice , Full Form JD , JD Full Form in Hindi , उम्मीद करता की लेख में दी गयी जानकारी आपके महत्ब्पूर्ण होगी।

भारत में बहुत से राजनितिक दल है जो चुनावो में हिस्सा लेते है। JD भी उन्ही राजनितिक दलों में से एक है। क्या जानते है की , JD Ka Full Form kya hota hai , JD राजनितिक दल की क्या बिचारदारा है। यदि आपको इन विषय के बारे में जानकारी नहीं है तो लेख को पूरा पढ़े। लेख में JD के विषय में सम्पूर्ण जानकारी दी गयी है।

JD Full Form in Hindi

What is Full Form JD : Janata Dal और जिसका हिन्दी अनुबाद भी जनता दल ही होता है।

जनता दल का निर्माण –

जनता पार्टी 1977 में कांग्रेस के बिकल्प के रूप में सामने आई थी। उसी तरह 1989 में जनता दल कांग्रेस के बिकल्प के रूप में उभर कर आई थी। भारत में 1989 दूसरी बार गैर – कांग्रेसी मंत्रिमंडल का गठन हुआ जिसका नेतृत्ब जनता दल ने किया था।

1988 में जनता पार्टी , लोक दल , असम गण परिषद , तेलगुदेशम पार्टी , कोंग्रस (एस ), जनमोर्चा , आदि दलों ने एक जुट हो कर भाजपा और कांग्रेस के विरुद्ध चुनाव लड़ने का इच्छा प्रकट की। जिसका मुख्या तेलगुदेशम पार्टी  के अध्यक्ष एन टी रामाराब को अध्यक्ष बनाया गया और बी पी सिंह को संयोजक बनाया गया।

जनता दल के निर्माण के प्रयास में मुख्य रूप से श्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने किए थे। वह पहले कांग्रेस ( ई ) की के सदस्य थे। और राजीव गांधी के मंत्रिमंडल में रक्षा मंत्री थे परंतु  बोफोर्स सौदे के संबंध में उन्होंने अप्रैल 1987 में मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया।  और कांग्रेस तथा लोकसभा से भी त्यागपत्र दे दिया। तथा कांग्रेस मंत्रिमंडल के विरुद्ध खुले रूप से भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए। 

उन्होंने विपक्षी दलों को कांग्रेस के विरुद्ध संगठित करने की प्रयास किए उनके  प्रयत्न फलस्वरुप सभी विपक्षी दलों ने श्री बी पी सिंह  को इलाहाबाद के उपचुनाव में अपना सांझा उम्मीदवार के रूप में खड़ा किया।

श्री विश्वनाथ प्रताप सिंह  जिनके प्रयत्नों से राष्ट्रीय मोर्चा, जनता पार्टी, लोक दल ,कांग्रेस ( एस ) के प्रमुख नेताओं की एक बैठक जुलाई 1988 में न्यू दिल्ली में हुई।  इन्होंने आपस में मिलकर समाजवादी दल नमक नया दल बनाने का निर्णय लिया।  इन दलों के संयुक्त सम्मेलन में जो बेंगलुरु में अक्टूबर 1988 को हुआ, इसमें कांग्रेस (एस ) सम्मिलित नहीं हुई और इस सम्मेलन में दल का निर्माण किया गया जिसका नाम जनता दल रखा गया।

Janta Dal जनता दल को 1994 के उपचुनाव में 141 स्थान प्राप्त हुए और कांग्रेस को 193 स्थान प्राप्त हुए थे जनता दल ने भाजपा तथा वामपंथी दलों का भारी समर्थन से  केंद्र सरकार बनाई और श्री विश्वनाथ प्रताप सिंह को प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया था।

जनता दल की विचारधारा –

जनता दल की विचारधारा मुख्य आधार पर निम्नलिखित है।

लोकतंत्र – जनता दल लोकतंत्र में विश्वास रखता है। और सभी भारतीय लोकतंत्र को मजबूत बनाने का लक्ष्य रखता है। यह दल प्रशासन के सभी स्तरों पर लोकतांत्रिक संस्थाओं के प्रभावी रूप देने के लिए वचनबद्ध है।

धर्मनिरपेक्षता –  यह दल धर्मनिरपेक्षता का समर्थक है। इसका विश्वास है कि सब धर्म समान समझे जाने चाहिए ,और सब लोगों को धर्म के स्वतंत्रता व्यवहारिक रूप से प्राप्त होनी आवश्यक है।

गुटनिरपेक्षता – इस दल की विदेश नीति का आधार गुटनिरपेक्षता है। यह दल नहीं चाहता कि , भारत महान शक्तियों की गुट बंदी में भागीदारी करें, या किसी एक महाशक्ति से सैन्य समझौता या संधि करें, और उसके पीछे पिछलग्णु  के रूप में भूमिका निभाए।

समाजवाद तथा मिश्रित अर्थव्यवस्था – यह दल समाजवाद का समर्थक है।  परंतु साम्यवादी समाजवाद का नहीं, बल्कि लोकतांत्रिक समाजवाद का।  यह दल सर्वजनिक क्षेत्र तथा निजी क्षेत्र दोनों को बनाए रखने का समर्थक है। और सार्वजनिक क्षेत्र को और अधिक विकसित करने तथा शक्तिशाली बनाने पर जोर देता है। यह दल समानता समाजिक आर्थिक न्याय के आधार पर नई सामाजिक व्यवस्था के निर्माण पर जोर देता है।

आरक्षण तथा सामाजिक न्याय इस दल का विश्वास है कि राष्ट्र का सही विकास तभी हो सकता है। जब समाज के पिछड़े दलित और वंचित वर्गों को सामाजिक न्याय प्राप्त हो। और देश के शासन सामाजिक तथा आर्थिक व्यवस्था में उनकी भी समान रूप से भागीदारी हो।  यह दल  चाहता है कि दलित और पिछड़े वर्गों पर अत्याचारों को रोकने के लिए कठोर कानून बनाया जाए। और उन्हें शक्ति से लागू किया जाए यह दल अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति के अतिरिक्त अन्य पिछड़े वर्गों को भी आरक्षण की सुविधाएं दिए जाने का समर्थक है।

छोटे किसानों के हितों की रक्षा यह दल पिछड़े और दलित वर्गों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों के छोटे किसानों तथा भूमिहीन किसानों के हितों की रक्षा के लिए वचनबद्ध है। और भूमि सुधार कानूनों को लागू करवाना चाहता है। यह दल  चाहता है कि सरकार अपने बजट का आधा भाग ग्रामीण क्षेत्रों के विकास पर खर्च करें।

राष्ट्रीय एकता तथा अखंडता यह दल राष्ट्र की एकता और अखंडता को बनाए रखने और उसे मजबूत रखने के कदम उठाने के पक्ष में है।  इसका कहना है कि देश की अखंडता और राष्ट्रीय एकता को खतरा पैदा करने वाले आंतकवादी  तथा समाज विरोधी तत्वों को शक्ति दे निपटा जाना चाहिए।

जनता दल की नीतियां तथा कार्यक्रम –

  • यह दल उच्च पदों तथा स्थानों में व्याप्त भ्रष्टाचार को तुरंत समाप्त करेगा।
  • यह दल शक्तियों के केंद्रीकरण को रोकेगा।
  • भारत में सही अर्थों में संघात्मक प्रणाली को लागू करेगा।
  • भारत में लोकपाल ओं की नियुक्ति करेगा और उनकी शक्तियों को बढ़ाएगा।
  • समाज के पिछड़े शोषित तथा दबे हुए वर्गों के उत्थान के लिए विशेष प्रयत्न किया जाएंगे।
  • बूढ़े लोगों को पेंशन देने का समर्थक है।
  • यह दल सेना में एक पद एक पेंशन का नियम लागू करने का समर्थक है।
  • छोटे उद्योग तथा रोजगार देने वाले उद्योगों को बढ़ावा देगा।
  • यह दल भूमि सुधारों का वचन देता है।
  • छोटे किसानों के ₹10000 तक के ऋण को समाप्त कर देगा।
  • यह दल देश पर पड़े हुए विदेशी ऋण को कम करने के लिए पूरा प्रयास करेगा।

अन्तिम शब्दों में आज हमने इस लेख में पढ़ा की  JD Full Form – जे डी का फुल फॉर्म क्या होता है ?  उम्मीद करता हु की लेख में दी गयी जानकारी आपको समझ में आई होगी। यदि लेख से सम्बंधित आपके पास कोई भी प्रशन है तो आप प्र्शन कर सकते है। हम आपके प्र्शन का उत्तर देने की जरूर कोशिश करेंगे। लेख को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे। ताकि लोगो को भी जानकारी मिल सके।

यह भी पढ़े –

लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद..!!

Spread the love